Trending

क्‍या है पैरेंटल कंट्रोल



आज कंप्‍यूटर और स्‍मार्ट फोन ने आपके और आपके बच्‍चों के लिये इंटरनेट को आसान बना दिया है ऐसे में हर उम्र के बच्‍चे की पहुॅच इंटरनेट पर पडी उन सामग्रीयों तक हो सकती है। जिसे उसे नहीं देखना चाहिये या प्रयोग करना चाहिये। ऐसी सामग्री से बच्चों को बचाना अभिभावकों के लिए काफी कठिन काम है। लेकिन कुछ सॉफ्टवेयर की मदद से बच्चों की गतिविधियों पर नजर रखी जा सकती है- 

क्‍या है पैरेंटल कंट्रोल

बच्‍चे तो बच्‍चे होते हैं उन्‍हें अगर उन कोई रोक टोक न हो तो वो पूरे दिन कंप्‍यूटर से या इंटरनेट से चिपके रह सकते हैं और खासतौर पर तक जब माता पिता घर पर ना हों या कंप्‍यूटर के बारे में ज्‍यादा जानते न हों तो। बच्‍चों की इसी प्रकार की ऑनलाइन और ऑफलाइन गतिविधियों की मॉनिटरिंग करने और अगर आप घर पर हों या ना हो लेकिन आपके घरेलू कम्‍प्‍यूटर और इन्‍टरनेट या अन्‍य डिवाइसों को आपके बच्‍चे के लिये सुरक्षित बनाने को ही पैरेंटल कंट्रोल कहते हैं। इसके लिये कुछ सॉफ्टवेयर का इस्तेमाल किया जाता है। 
आप क्‍या-क्‍या कर सकते हैं 

आप जान सकते हैं कि आपका बच्‍चा आपके पीछे क्‍या-क्‍या कर रहा है। 
अगर आपको लगता है कि कुछ बेवसाइट आपके बच्‍चें के लिये ठीक नहीं हैं तो आप उन बेवसाइट को ब्‍लॉक कर सकते हैं। 
कंप्यूटर पर देखी गई सभी वेबसाइट्स का पूरा ब्यौरा प्राप्‍त कर सकते हैं। 
आप बच्‍चों के कम्‍प्‍यूटर और इन्‍टरनेट के प्रयोग का टाइम निर्धारित कर सकते हैं। 
इंटरनेट सर्च को बच्‍चों के लिये अच्‍छा बना सकते हैं।